एक लंगूर, जिसने 9 साल रेलवे की नौकरी की | top10 hindi jankari |

एक लंगूर, जिसने 9 साल रेलवे की नौकरी की

दुनिया में इंसानों की तरह कुछ जानवरों को भी सरकारी नौकरियों पर रखा जाता है। इन जानवरों में कुत्ता, घोड़ा, हाथी प्रमुख है। कुत्ते और घोड़े आपने सेना की नौकरी करते हुए देखे होंगे। लेकिन क्या आपने कभी किसी बंदर या लंगूर को सरकारी नौकरी करते हुए सुना है। शायद नहीं करण इनके चंचल स्वभाव के चलते इनसे कोई काम निकलवाना काफी मुश्किल होता है। पर मैं आज आपको एक ऐसे लंगूर की कहानी बताऊंगा। जिसने 9 साल तक सफलतापूर्वक रेलवे की नौकरी की और अपना नाम इतिहास में दर्ज करवा लिया। बात 19 वीं सदी के उत्तरार्ध की है। 

एक लंगूर, जिसने 9 साल रेलवे की नौकरी की | top10 hindi jankari |
jackie the baboon
दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन शहर के पास एक रेलवे स्टेशन है। जिसका नाम इटेंन है। इस स्टेशन पर जेम्स वाइल्ड नामक एक सिग्नल मेंन नौकरी किया करता था। जेम्स था तो रेलवे का कर्मचारी पर उसे एक बुरी आदत थी। वह अक्सर चलती गाड़ियों पर स्टंट किया करता था। जब भी दो गाड़ीया गुजराती वह एक ट्रेन से दूसरी ट्रेन पर छलांग लगाता रहता था। उसकी इसी आदत की वजह से लोग उसे जंपर कहने लगे थे। एक दिन ऐसा ही एक स्टंट करते समय उसका बैलेंस बिगड़ गया और वह एक गाड़ी के नीचे आ गया। इसमें उसकी जान तो बच गई पर दोनों पैर घुटने के नीचे से कट गए पैर कटने के बाद अब जेम्स की नौकरी खतरे में आ गई।

इसे भी पढ़े :- 

दुनिया के 31 अजब-गजब कानून – पढ़ के आप हैरान रह जायेंगे | 31 Amazing Laws From Around The World In Hindi |


उसे अपने घर से रेलवे स्टेशन तक आने जाने में कठिनाई होने लगी। जो कि मुश्किल से आधा किलोमीटर की दूरी थी। हालाकि उसने लकड़ी के नकली पैर लगवा लिए पर फिर भी उसे सिग्नल मैन की नौकरी जारी रखने के लिए एक सहायक की सख्त जरूरत थी। एक दिन जेम्स स्थानीय कस्बे के बाजार में कुछ खरीदारी करने गया हुआ था। वहां उसने एक बैलगाड़ी देखी। जिसमें एक किसान बैठा हुआ था और उसे एक लंगूर हाक रहा था। इसे देखकर जेम्स को लगा कि यदि उसे यह लंगूर मिल जाए। तो वह उसकी बहुत मदद कर सकता है। उसने बैलगाड़ी वाले से इस लंगूर को बेचने का आग्रह किया। इतने होशियार लंगूर को बेचने के लिए गाड़ी वाला तैयार नहीं था पर उसने जब जेम्स के कटे हुए पैर देखे तो उसे उस पर दया आ गई और उसने कुछ पैसे लेकर लंगूर जंपर को बेच दिया। इस लंगूर का नाम जैक था।

इसे भी पढ़े :-  

अजब गजब देश और दुनिया की अनोखी बातें । ajab gajab duniya hindi।


एक लंगूर, जिसने 9 साल रेलवे की नौकरी की | top10 hindi jankari |
jackie the baboon
उस दिन के बाद से जेम्स और जैक दोनों एक साथ रहने लगे। जैक बहुत ही होशियार लंगूर था। वह जेम्स को उसके घर से रेलवे स्टेशन तक आने जाने में मदद करता और उसके बहुत से छोटे-मोटे काम कर देता। जैक के आने से जेम्स की जिंदगी थोड़ी सी आसान हो गई। नौकरी के वक्त भी जैक जंपर के साथ रहता और उसकी प्रत्येक गतिविधि को बड़े गौर से देखता रहता। धीरे-धीरे वह उसमें भी जंपर की मदद करने लगा। जेम्स इशारों से उसे बताता और वह उसी के अनुसार सिग्नल को बदल देता। समय के साथ-साथ जैक एक परफेक्ट सिग्नल मैन बन गया। वह आने जाने वाली गाड़ियों की सिटीयो को पहचानने लगा। सिग्नल बदलकर गाड़ियों के रूट सही-सही बदलने लगा। अब बात यहां तक पहुंच गई कि जेम्स एक तरफ बैठा रहता और जैक उसकी पूरी जिम्मेदारी निभाता। 

इसे भी पढ़े :-  

दुबई जाने से पहले जान ले इन बातो को || DUBAI International City || top10 hindi jankari


अब जैसा की स्वाभाविक था। कि आस-पास के गांव में यह खबर फैलते हुए देर न लगी कि स्टेशन पर एक लंगूर सिग्नल मैन का काम कर रहा है। उसे देखने के लिए भीड़ इकट्ठा होने लगी। कुछ लोग उसे आशाचर्य से देखते तो कुछ को लंगूर का इस तरह से काम करना बेहद गलत लगा। एक जानवर के ऊपर सिग्नल मैन जैसी बड़ी जिम्मेदारी का होना बेहद खतरनाक बात थी और कभी भी दुर्घटना का अंदेशा हो सकता था। ऐसे ही किसी एक व्यक्ति ने एक दिन रेलवे अधिकारियों को इसकी शिकायत कर दी। रेलवे अधिकारियों ने जब यह सब देखता तो उन्होंने जेम्स को तुरंत बर्खास्त कर दिया। अब जेम्स क्या करता पर उसे अपने लंगूर की छमता पर पूरा भरोसा था। उसने ऊपर बैठे अधिकारियों से अपील की और अपने लंगूर का टेस्ट लेने को कहा और उसने यह दावा किया। कि उसका लंगूर किसी इंसान से बेहतर सिग्नल मैन है न जाने क्यों अधिकारियों को लगा। उन्होंने लंगूर का टेस्ट लेने की हामी भर दी और रेलवे के इंजीनियर लंगूर का टेस्ट लेने के लिए आए।

एक लंगूर, जिसने 9 साल रेलवे की नौकरी की | top10 hindi jankari |
jackie the baboon
 उन्होंने कई तरह से लंगूर का टेस्ट लिया। जैक हर परीक्षा में खरा उतरा। उसकी काबिलियत ने रेलवे के अधिकारियों को इतना प्रभावित किया। कि उन्होंने उसे रेलवे की नौकरी पर रखने की सिफारिश कर दी। अब तो जेम्स की जगह जैक ने ले ली। यानिकी लंगूर को रेलवे की ओर से उस स्टेशन पर अधिकृत सिग्नल मैन बना दिया। उसे 20 सेंट प्रति सप्ताह की तनख्वाह और आधा बोतल बीयर की रोज दी जाती थी। उसने अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभाया और अपनी मौत होने तक 9 साल रेलवे की नौकरी करता रहा।

इसे भी पढ़े :-  

20 दिन के बच्चे के पेट में मिला एक अविकसित भ्रूण, Underdeveloped fetus removed from 20-day-old infant's abdomen


कमाल की बात यह रही कि उसने अपने पूरे कार्यकाल में एक भी गलती नहीं की आखिरी समय में उसे टी बी की बीमारी हो गई और उसकी मृत्यु हो गई। आज भी उसकी खोपड़ी ग्राहमस टाउन के अलबेनी म्यूजियम मैं दर्शनाहत रखी हुई है। वह इस दुनिया का सबसे पहला और शायद सबसे आखरी लंगूर था। जिसे रेलवे की नौकरी में रखा गया था। 

ऐसी ही और रोचक कहानी हम आपके लिए रोज लाते रहेंगे। नीचे अपना ईमेल ID डालकर इस साईट को सब्सक्राइब करें ताकि आने वाली सभी पोस्ट का नोटिफिकेशन आप तक ईमेल के जरिए पहुंच जाए। 

आशा करता हूं कि आपके लिए यह पोस्ट लाभदायक होगी। अगर आपका इससे संबंधित कोई भी सवाल है। तो कमेंट में पूछ सकते हैं। साथ ही इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर शेयर कीजिए।।
Previous
Next Post »

1 comments:

Click here for comments
flipqart
admin
August 6, 2018 at 9:47 PM ×

Nice article
https://www.smakemoneyonline.org

Congrats bro flipqart you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar